मेरे बारे में

मेरी फ़ोटो

बड़े आसान से शब्दों में लिख डाली कहानी है
जो मेरे साथ है गुजरा वही मेरी जुबानी है
मैं तुमसे क्या कहूँ मैं ही नहीं समझा मोहब्बत
को मेरे ऐहसास के सावन में बस यादों का पानी है

मंगलवार, जुलाई 26

यूँही बारिश में कई नाम लिखे थे








यूँही  बारिश  में  कई  नाम  लिखे  थे ,
अपने  हाथों  से  कई  पैगाम  लिखे  थे 
अब  तक  जमी  हैं  वो  यादों  की  बुँदे ,
जिनके  आगोश  में , सुबह  शाम  लिखे  थे ,
                                         
आज  तनहा  हूँ  मै  तो  ये  सोचता  हूँ ,
अपने  अकेलेपन  से  यही  पूंछता  हूँ ,
कहाँ  हे  वो  जिसकी  खातिर  हमने ,
जमाने  के  कई  गुलफाम   लिखे  थे .

जिंदगी  की  तो  मगर  ये  कहानी  पुरानी  है ,
कल  कोई  और  था  इसके  पैमाने  पर ,
आज  "अनुपम " की  ये  कहानी  है  ,
कोई  लाख  भुलाए  पर  केसे  भूलेगा ,
जिसे  देखकर  मोहब्बत  के  इम्तिहान  लिखे  थे .

 यूँही  बारिश  में  कई  नाम  लिखे  थे........... 


7 टिप्‍पणियां:

  1. आपकी लिखी रचना "पांच लिंकों का आनन्द में" गुरुवार 28 जुलाई जुलाई 2016 को लिंक की गई है.... http://halchalwith5links.blogspot.in पर आप भी आइएगा....धन्यवाद!

    उत्तर देंहटाएं
  2. बहुत ही सुन्दर रचना.बहुत बधाई आपको . कभी यहाँ भी पधारें और लेखन भाने पर अनुसरण अथवा टिपण्णी के रूप में स्नेह प्रकट करने की कृपा करें |
    https://www.facebook.com/MadanMohanSaxena

    उत्तर देंहटाएं